मंगलवार, 19 मई 2009

बद्ध और मुक्त

आत्मना बध्यते ह्यात्मा मुञ्चेन्नात्मानमात्मना।
कोशकारो यथा कीट आत्मानं वेष्टयेद् दृढम् ।।
न चोद्वेष्टयितुं शक्त आत्मानं स पुनर्यथा।
तथा संसारिण: सर्वे बद्धा: स्वैरेव बन्धनै:।।
न च मोचयितुं शक्ता: पशव: पाशबन्धना:।
स्वयमेव स्वमात्मानं यावद्वै नेक्षते शिव:।।
शिवशक्तिनिपातात्तु मुच्यन्ते पाशबन्धनात् ।।

(यह आत्मा अपने द्वारा अपने को बन्धन में डाल तो लेता है किन्तु अपने से अपने को मुक्त नहीं कर पाता। जैसे रेशम का कीड़ा अपने द्वारा अपने को सब ओर से दृढ़ता के साथ वेष्टित कर उसके अन्दर स्थित रहता है और उस वेष्टन को काटकर निकलने का सामर्थ्य उसके अन्दर नहीं रहता उसी प्रकार यह (परमात्मास्वरूप) जीव अपने बन्धन से बँध तो जाता है किन्तु बन्धन को काटकर निकलने की क्षमता उसमें नहीं रहती। (गुरु के) शक्तिपात के द्वारा वह इस बन्धन को काटने में समर्थ हो जाता है अर्थात् अपने शुद्ध निर्मल अनुपम स्वरूप को पहचान लेता है।)

2 टिप्‍पणियां:

आनन्‍द पाण्‍डेय ने कहा…

आप संस्‍कृतप्रेमी हैं जानकर बहुत अच्‍छा लगा
आपके दोनो संस्‍कृत ब्‍लाग संस्‍कृत जगत में शामिल कर लिये गये हैं

http://sanskritjagat.blogspot.com/ पर देखें ।।

आप संस्‍कृत में अच्‍छा लिखते हैं

आपको संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् (sanskrit-jeevan.blogspot.com) जालपृष्‍ठसंग्राहक का लेखक बनने का निमन्‍त्रण दिया जा रहा है ।

यदि संस्‍कृत भाषा के प्रसार में सहयोग देना चाहते हैं तो हमें pandey.aaanand@gmail.com पर
अपना संक्षिप्‍त परिचय ईमेल करें , आपको एक लिंक भेजा जायेगा । जिसपर क्लिक करके आप संग्राहक के लेखक बनकर संस्‍कृतमाता की सेवा में सहयोग दे सकेंगे ।

धन्‍यवाद

हरीश सिंह ने कहा…

संस्कृत की सेवा एवं उसे बढ़ावा देने के लिए. आप जो कर रहे है उसके लिए साधुवाद, यहाँ भी आयें और follower बन कर हमारा उत्साह बढ़ाएं. www.upkhabar.in/